Best 211+ impressive quotes IN HINDI



वो मेरी फ़िक्र तो करती है मगर प्यार नहीं

यानी पायल में घुँघरू तो हैं झंकार नहीं

 

 

 

लग रहा है भूल गए हो शायद,
या फ़िर कमाल का सब्र रखते हो।

 

 

 

यादें उन्ही की आती हैं जिन से कुछ तालुक हो,

हर शख्स मोहब्बत की नज़र से देखा नहीं जाता

 

 

 

हर रात को बेहद कर गया,…

ख़्वाबो में आकर वो मुहब्बत कर गया!!

 

 

 

रखना है तो फूलों को तू रख
ले निगाहों में.

ख़ुशबू तो मुसाफ़िर है खो जाएगी राहों में..

 

 

 

Zara Sa Ghum Hua Aur Ro Diye Hum,

Badi Naazuk Tabiyat Ho Gayi Hai …!




Es qadar aam bhi kahan tha woh shakhs,

Ki mujhe zindagi mein mil jata …!

 

 Main kahan kho gaya hun batlaao ?

Aakhiri baar tum ne dekha tha …!

 

 

Ashq Nikla Hai Koi, Haath Mein Patthar Le Kar..

Mujh Se Kehta Hai, Tere Zabt Ka Sarr Phodunga. !

 

 

 Ye na jaane the ki uss mehfil mein dil reh jayega,

Hum ye samjhe the chale aayenge dum bhar dekh kar. !!

 

 

Ye aur baat hai ki tere rubaru nahi guzra,

Main jis azaab se guzra hun tu nahi guzra …!

 

 

 Ab main khamosh agar rehta toh izzat jaati,

Mera dushman mere kirdaar talak aaya …!

 

 Wahan Wahan Se Utha Di Gayi Hain Deewaarein,

Jahan Jahan Se Tera Ghar Dikhayi Deta Hai…!

 

 Tum se Wada Wafa Nahi Hogi,

Soch Lo Aur Abhi Mukar Jaao…!

 

 

 Meri Dhadkan Ki Bandish Pe Zaamane Ke Maseeha Ne,

Mohabbat Ko Toh Ghum Likha Tujhe Uski “Dawa” Likha …!

 

 

 जो बात हम में है ना,,,

वो न तो तुझमें हैं और न ही मुझमें हैं

अपनी ताक़त पे जिसे नाज़ है उस से पूछो,

क्या जनाज़ा भी वो ख़ुद अपना उठा सकता है?

एक हम ही नहीं परेशान याद में,

उनकी आंखों का काजल भी कुछ बिखरा सा लगता है

 

 

 किरदार की अज़मत को गिरने न दिया हमने,
धोखे तो बहुत खाए, धोखा न दिया हमने.

 

 

Umra Ka To Kaam Hai Dhalna
Tum Magar Muhbbat To Jaari Rakhte

 

 

उम्र का तो काम है ढलना.,
तुम मगर मुहब्बत तो जारी रख़ते …

 

 

ज़रा सा गुम हुआ और रो दिए हम

बढ़ी नाज़ुक तबियत हो गई है

 

 

Kal tera zikr aa gaya ghar mein,

Aur phir badi der tak ghar mehekta raha..

 

 

 Kitne Suljhe Hue Tareeqe Se,

Mujh Ko Uljhan Mein Daal Dete Ho …!

 

 

 Maa Se Kya Kahengi Dukh Hijar Ka ,

Ki Khud Par Bhi Itni Chhoti Umar’on Ki Bachiyan Nahi Khulti ..!

 

 

 Aaj Kal Kis Se Muhabbat Hai Tumhein ?

Aaj Kal Kis Ke Liye Paagal Ho ..?

 

 

Main hawa mein haath hila kar laut aaya,

woh abb bhi rail mein baithi sisak rehi hogi …!

 

 

Ek Roz Iss Tarah Bhi Mere Baazuon Mein Aa,

Mere Aadab Ko Teri Hayaa Ki Khabar Na Ho …!

 

 

 Koi Aaye To Chhipa Deta
Hoon Ghar Ke Deepak Saare,

You’n Chipata Hoon Andhero Me Andhere Ghar Ke…



 Banana padta tha aksar bigaad kr khud ko…!!!

Mene rakh hi diya tod taad kr khud ko…!!!

 

 

 

Meri chahato ka khayal kr….!!!!

Mai udaas hoon mujhe call kr…!!!

 

 

 कसम ख़ुदा की मैंने उसको तुम्हें समझकर चूमा था
फिर तुम दोनों बहनें भी तो दिखने में इक जैसी हो

 

 

 Mat pooch kis tarah se Guzar Rahi hai zindagi,

Us Daur Se Guzar Raha hoon jo Guzarta hi nahi.

 

 

ऐसा डूबा हूँ तेरी याद के समंदर में “फ़राज़”

दिल का धड़कना भी अब तेरे कदमों की सदा लगती है

 

 

 तेरा नेमुल बदल नहीं कोई
तू फकत एक ही तो था मेरा

 

 

अब मैं झगड़ा करूँ तो किससे करूँ
अब तो तू भी नहीं रहा मेरे पास

 

 

Ek Aur Baar Meri Ayaadat Ko Aaiye,

Achhi Tarah Se Main Abhi Achha Nahi Hua …!

 

 

 

Tujhe Khabar Nahi Hum Dekh Kar Bauht Roye,

Nayi Kitaab Mein Tasveer Ek Puraani Teri …!

 

 

Dono Ka Milna Mushkil Hai, Dono Hain Majboor Bahut..

Uss Ke Paaon Mein Mehndi Lagi Hai, Mere Paaon Mein Chhaale Hain.. !

 

 

 Husn Ki Chhed-chhaad Na Ho Toh,

IshQ Kab Waardaat Karta Hai …!

 

 

ज़रूरी नहीं कि इश्क में बांहों के सहारे ही मिलें,

किसी को दिल से जी भर के महसूस करना भी मोहब्बत है…

 

 

कभी टूटा नहीं मेरे दिल से आपकी याद का तिलिस्म फ़राज,

गुफ़्तगू जिससे भी हो ख़्याल आपका रहता है

 

 

 ज़ुबां को छू लिया है फिर उस उंगली ने..

कोई पन्ना, फिर गुज़रने को है…

 

 

दिन से एक कारोबारी रिश्ता है,
दोस्ती मेरी सिर्फ़ रात से है…!!



Jise ISHQ ki hawa lagi,

Usse phir na Dawa lagi na Dua lagi..

Mujhe bhi yun to badi aarzoo hai jeene ki

Magar sawal ye hai kis tarah jiya jaye

 

 

 

हर रात जान-बुझकर खुला रखता हू दर अपना……

कि कोई तो हो लुटेरा… जो मेरे सारे गम लूट ले जाए…

 

 

 मुकाम औरत का फिर जान गया वो,
बना था बाप जब वो एक बेटी का…

 

 

खुबसूरत सा वो पल था

, पर क्या करें वो कल था…

 

 

चेहरे के रंग बोल उठेंगे उनके,,,,
उनसे जाकर बस बात छेड़ दो हमारी..

 

 

Surama ankho me lagane se bhala kiya hasil,
Mehndi hatho me lagao to koi baat bane….

 

 

मेरे दिल में तेरे लिए प्यार आज भी है.. माना कि तुझे मेरी मोहब्बत पर शक आज भी है

नाव में बैठकर जो धोए थे हाथ तूने.. पूरे तालाब में फैली मेंहदी की महक आज भी है…

 

 

Phole pathchard ke sab aj dhund la gye,
Mere hatho me mehdi rachi ki rachi reh gyi..?

 

 

Bin bulaye aa jata hai, Sawal nahi karta,

Tera khyal to mera bhi khyal nahi karta.

 

 

 

Mere alfaz be asar hain,

Thahro! dhandkane sunata hun

 

 

 गले मिलता हैं वो हर मज़हब से

लगता हैं वो किसी इंसान जैसा

 

 

 मुझे दुगनी मुहब्बत से सुनो, उर्दू ज़ुबां वालो….

मैं हिन्दी मां का बेटा हूं, मैं घर मौसी के आया हूं

 

 

 

ladka tha, jo hansta tha chhoti-chhoti baaton par,

Magar ye baat purani hai, jaane kitne saalon ki.

 

 

 

शौक़-ए-शायरी के नाम पर ही दिल की बात कह जाते हैं हम,

और कई लोग गीता पर हाथ रख कर भी सच नहीं कह पाते है…

 

 

 

Mai Tumhare Hi Dum Se Zinda Hu,

Marr Hi Jau Jo Tumse Fursat Ho..

 

 

 

 दास्तान खत्म होने वाली है,
तुम मेरी आखिरी मोहब्बत हो



 Dil ko huzur chikhne chillaane dijiye…!!!

Jo aapka nahi hai use jane dijiye….!!!

 

 

 Ghum-e-hijr se na dil ko kabhi hum-kinaar karna,

main phir aaunga palat kar mera intezaar karna.

 

 

 Ishq wo hai.. Jab main sham ko milne ka wada karu..

Or… Wo din bhar suraj ke hone ka afsos kare

 

 

 Mohabbat hai gar to mijaz zara naram rakhiye…

Ziddi Hone se ishq-e-sukoon me khalal padta hai

 

 

Koi sulah kara de zindgi ki uljhano se

Badi talab hai aaj mukurane ki

 Bahut ucha kalakar hu zindgi ke rang manch ka

Sahab

Majal hai dkhne walo ko mera dard dikh jae

वो जुनून कही जो ना मिट सके, जो ना मिल सके वो क़रार दे,

मैं उसुल ए इश्क़ की बिसात हु, तू गुरुर ए हुस्न से मात दे…

 

 

दरमियां…. चाहे इश्क़ हो… अश्क हो… या रश्क हो
शर्त बस इतनी है जो भी हो, “सच हो”….?

 

 

 

 वो तो तुम याद आ गईं वरना
मैं तुम्हें भूलने ही वाला था

शमसुल हसन “शम्स”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

TopStatus4You - All rights reserved © 2018